अन्तरजातीय विवाह

दहेज

आज दहेज प्राय: हर समाज में दानवीय रूप ले चुका है । जो समुचित अथवा कहें वट पक्ष के मनोनुकूल दहेज नहीं दे पाते उनसे तो वर पक्ष रूष्ट होता ही है उनकी बेटी जो विवाहोपरांत उनके घर की बहू बन जाती है और जिसे लक्ष्मी कहा जाता है उसे तरह तरह से प्रताडि़त किया जाता है । दहेज की बढ़ी मांग के चलते ही अनेक सु

Tags: 

Subscribe to RSS - अन्तरजातीय विवाह