आचार्य

लक्ष्मी साधना-आचार्य डॉ. गिरधर शर्मा

माँ लक्ष्मी प्रत्येक व्यत्त्ति के संपूर्ण जीवन की आराध्या
है। संसार का आधार है। माँ महालक्ष्मी मात्र धन ही प्रदान नहीं
करती त्त्योंकि मात्र धन से ही सुख, शांति नहीं मिलती धन से
भोजन खरीदा जा सकता है लेकिन भूख या स्वास्थ्य नहीं।
रूपया - पैसा हजारों लाखों के पास हो सकता है लेकिन
जरूरी नहीं कि रूप, यौवन, प्रभुता, प्रतिष्ठा, ऐश्वर्य प्राप्त हो।
मां लक्ष्मी की कृपा से धन, यौवन, रूप, पद, प्रतिष्ठा, यश,
कीर्ति सभी उपलत्त्ध हो जाता है, इसलिए कि मां लक्ष्मी सभी
कुछ देने में समर्थ हैं। विश्व में सबसे अधिक लक्ष्मी साधना से
संबंधित हजारों विधियां है। सामान्य गृहस्थ या साधक अपनी
स्थिति परिस्थिति के अनुसार साधनायें कर सफलता प्राह्रश्वत करते
रहते हैं।

Tags: 

संस्कृत विद्यालय की पढ़ने- पढ़ाने की शैली अनूठी है-विनोद शास्त्री

बिलासपुर । श्री निवास संस्कृत महाविद्यालय में कांशी से पधारे हुए संस्कृत के आचार्य पं.

Tags: 

Subscribe to RSS - आचार्य