आराधना

भगवान शिव की आराधना

भारत वर्ष एक विशाल देश है। इसमें विभिन्न धर्मों, जाति, भाषा व प्रदेश के लोग रहते हैं। सभी अपने अपने अनुसार पूजा, व्रत, उपवास व अनुष्ठान करते हैं । यहां अनेक पर्व मनाये जाते हैं, जिसमे ंशिव आराधना का महाशिवरात्रि पर्व एक विशेष त्यौहार है । ईसान संहिता में शिवरात्रि पर्व के संबंध में बताया गया है

Tags: 

सूर्योपासना और हमारा स्वास्थ्य

देव वह नहीं है जो सिर्फ पूज्य है । देव वह है जो कल्याणकारी है । जो कल्याणकारी है, वही पूज्य है। देवता की इस दार्शनिक परिभाषा में जो प्रकृति तत्व हमें प्रत्यक्ष दिखाई पड़ता है वह है सूर्य । सबको एक समान देखने वाला, सबके लिए उपकारी और उपयोगी उपभोगी दूसरा प्रकृति तत्व हमें प्रत्यक्ष नजर नहीं आता । ऐ

Tags: 

पुरूषोत्तम मास

Sharda gopal Sharma

भगवान विष्णु की आराधना का पर्व पुरूषोत्तम मास-इस वर्ष ज्येष्ठ मास अधिक मास है क्षण, मुहूर्त, पक्ष, मास, दिन, रात्रि आदि सब अपने अपने स्वामी से अधिकार प्राप्त करके निर्भय विचरण करते हैं किन्तु अधिक मास का न कोई नाम न कोई स्वामी एवं न कोई आश्रय होता है । अधिक मास में शुभ कार्य निषिद्ध है

Tags: 

राशि अनुसार शिव का पूजन

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि व्यक्ति अपनी राशि के अनुसार भगवान शिव की आराधना और पूजन करे तो विशेष लाभ प्राप्त कर सकते हैं । जिसे अपनी जन्म राशि या नाम राशि पता हो वह व्यक्ति निम्न सामग्री से शिवलिंग पर अभिषेक करे ।

Tags: 

राशि के अनुसार हो शिव पूजा

शिव पुराण के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग की उत्पत्ति हुई थी, इसीलिए इस दिन किया गया शिव पूजन, व्रत और उपवास अनंत फल दायी होता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार श्रध्दालु भक्त अपनी राशि के अनुसार भी भगवान शिव की आराधना और पूजन कर मनोवांछित फल प्राप्त कर सकते हैं । महाशिव रात्रि के दिन किसी भी र

Tags: 

Subscribe to RSS - आराधना