ऐतिहासिक विप्र महाकुंभ संपन्न

महाकुंभ के राष्ट्रीय महामंत्री सुशील ओझा
 रतन शर्मा ने  विप्र बैंक
परशुराम विश्वविद्यालय के लिए एक करोड़ रुपये

जयपुर। सीकर रोड के भवानी निकेतन में ऐतिहासिक विप्र महाकुंभ का आयोजन हुआ । महाकुंभ में राजनीतिक भेदभाव मिटाकर प्रदेश भर से विप्र बंधु एकत्र हुए । कार्यक्रम में आर्थिक आधार पर आरक्षण को लेकर मांग जोर शोर से की गई । विप्र फाउंडेशन द्वारा महाकुंभ में सभी ब्राह्मण संगठन शामिल हुए । फाउडेंशन की ओर से साफ तौर पर कहा गया कि जहां कोई ब्राह्मण प्रतिनिधि खड़ा होगा वे उसका पूर्ण सहयोग करेंगे।मुख्य अतिथि पूर्व केन्द्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि सवर्ण वर्ग खुद को असहाय महसूस कर रहा है, जो देश के लिए घातक है। देश के नवयुवक भविष्य को लेकर आशंकित है। आर्थिक आधार पर आरक्षण होना चाहिए। केन्द्रीय परिवहन मंत्री सीपी जोशी ने कहा कि आरक्षण और पदोन्नति में आरक्षण एक समस्या है। इसे मिल जुलकर हल करना होगा। आर्थिक दृष्टि से आरक्षण के लिए नए तरीके से लोकतंत्र में उठाना होगा। सर्व ब्राह्मण महासभा के प्रदेशाध्यक्ष पंडित सुरेश मिश्रा ने कहा कि यदि पदोन्नति में आरक्षण नहीं होना चाहिए तो सभी नेता व समाजबंधु हाथ उठाकर उनका समर्थन करे।
परशुराम विवि व बोर्ड की मांग
महाकुंभ में परशुराम विश्वविद्यालय बनाने की मांग रखी गई । महाकुंभ के राष्ट्रीय महामंत्री सुशील ओझा ने राज्य सरकार से 50 एकड़ जमीन की मांग की । इस दौरान देवनारायण बोर्ड की तर्ज पर भगवान परशुराम बोर्ड बनाने की मांग की गई।
विप्र महाकुंभ के सफल आयोजक मुख्य संयोजक श्री गोपाल शर्मा ने कहा कि सवर्णों को आरक्षण व पदोन्नति में आरक्षण का सुप्रीम कोर्ट के फैसले का अक्षरश: पालन होना चाहिए । भारत के संविधान ने कभी आरक्षण को उपयुक्त नहीं माना। इसे 10 साल के लिए लागू किया गया था । संवैधनिक आयोग बनाकर इसका निर्णय होना चाहिए।
विप्र फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय शिक्षा मंत्री बृजकिशोर शर्मा, महिला आयोग की राष्ट्रीय अध्यक्ष ममता शर्मा, चिकित्सा राज्य मंत्री राजकुमार शर्मा, विधायक राजकुमार रिणवा, वित्त आयोग अध्यक्ष बी.डी. कल्ला, भाजपा के पूर्व अध्यक्ष ललित किशोर चतुर्वेदी, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अरूण चतुर्वेदी, उद्योग मंत्री राजेन्द्र पारीक ने आर्थिक आधार पर आरक्षण का समर्थन किया ।
महाकुंभ में समाज के विकास और परशुराम विवि के लिए जमकर घोषणाओं का दौर चलता रहा । फाउंडेशन के सदस्य रतन शर्मा ने विप्र बैंक के लिये हर साल एक करोड़ रुपये देने के साथ ही उन्होंने पांच करोड़ रुपये की एफडी भी करवाई । प्रदेशाध्यक्ष अनुराग शर्मा ने भी परिवार की ओर से परशुराम विश्वविद्यालय के लिए एक करोड़ रुपये देने की घोषणा की । इनके अलावा हरियाणा गौड़ ब्राह्मण समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष शंकर शर्मा, गौड़ ब्राह्मण समाज के अध्यक्ष विजय हरितवाल, वित्त आयोग के अध्यक्ष बी.डी. कल्ला, पूर्व पार्षद रास बिहारी, ब्राह्मण नेता सोमेन्द्र शर्मा ने भी कई घोषणाएं की ।

Tags: