कविता

कविता----- बालकवि बैरागी

एक बात के लिये जो उम्र भर जिन्दा रहे
और वो भी ना मिले तो बहुत शर्मिन्दा रहे
उस दीप ऐ मैं कह रहा हूं इस तरह रोओ नहीं
अच्छी भली इस उम्र को इस तरह खोओ नहीं
स्नेह को साधे बिना धरती नहीं हिल पाएगी
आग को जिन्दा रखो सौ बााितयां मिल जाएंगी।

Tags: 

संबंध अनुबंध हिंदी कविता

हमारे तुम्हारे प्यार के सेतु को जोड़ता हुआ ये संबंध
समन्वय पर आधारित है ये अनुबंध
पवन में ज्यों मन्द घुली रहती है ये गन्ध
गीतों में ज्यों कसा रहता है छन्द
स्वर लहरियों मे ंवंशी की आत्मा है ज्यो रंन्ध्र
प्रेम और विश्वास को समर्पित है ये निबंध

Tags: 

कविता

शाम ही से चिराग जलने दो ।
अंधेरा आये नहीं टचलने दो ।।
सभी दीपक में तेल बाती भर
रौशनी की कतार चलने दो ।।
दीप की रौशनी सभी की है
सभी के घर चिराग जलने दो ।।
इस प्रदेश को जो लूट रहे
उनको न फूलने न फलने दो ।
अपने पौरूष को अपनी ताकत को

Tags: 

पं. संजीव ठाकुर का सम्मान

कवि, कविता, सम्‍मान, प्रथम, अखिल, साहित्य, पुरस्कार, कवि संजीव ठाकुर, प्रयोगधर्मी कृति, कहानी, उपन्यास

Tags: 

जम कर होगी जंग शुरू

घर घर मे होगी बन्दूकें
जेबों में बम्ब भरे होंगे,
आकाश से बारूद बरसेगा
खेतों में तीर उगे होंगे ,
नन्हें मुन्हे बच्चों के
हाथों में होंगे हथगोले
झांसी कीरानी की गाथा
फिर से गायेंगे हरबोले
फिर से आयेंगे भगत सिंग

Tags: 

तीन कविताएं ...

कहीं हम भूल न जाये
इतिहास खुद का
कहीं हम कर न डालें
उपहास खुद का
आनंद शोध का विषय तो
स्वयं विप्र है
कहीं हम खो न दे
विश्वास, खुद का ।

Tags: 

पं. संजीव ठाकुर को मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार

पं. संजीव ठाकुर को भव्य समारोह में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा '00म/- शॉल तथा श्रीफल से सम्मानित कर प्रथम अखिल भारतीय मैथिलीशरण गुप्त साहित्य पुरस्कार प्रदान किया गया , यह पुरस्कार अखिल भारतीय गहोई वैश्य समाज द्वारा स्थापित किया गया है। यह सम्मान व पुरस्कार पं.

Tags: 

होली में

नहीं मिलते, जिन्हें हम खोजते फिरते हैं, होली में,

हमारा दिल चुरा कर रख लिया है अपनी चोली में,

नहीं परवाह उन को है क हम पर क्या गुजरती है,

इसे वे बेरहम हंस कर उड़ा देते ठिठोली में,

खबर उन को नहीं शायद कि हम शैतान हैं ऐसे,

Tags: 

नववर्ष शुभकामना कविताएँ व रचनाऐं

शीर्षक एक बात अनेक
नववर्ष
नवयुवकों के लिए नई चेतना का
निर्दोषों के लिए न्याय का
नववधू के लिए सुखमय
वैवाहिक जीवन का हो ।

नववर्ष

Tags: 

दीप वर्तिक

काट जगत तिमिर पाश । न रहें रंचमात्र संत्रास ॥
अन्तस भर नव उच्छवास । बंदनवार सजे धरा आकाश ॥
शुभ्र ज्योत्स्त्रा दे ज्योति मालिके । जग आलोकित हो दीप वर्त्तिके ॥

Tags: 

Subscribe to RSS - कविता