छत्तीसगढ़ी

दानेश्वर शर्मा ने छत्तीसगढ़ी में भागवत पुराण लिखा

श्रीमद् भागवत महापुराण की टीका व्याख्या तेलगू, गुजराती, मलयालम , बंगला आदि अनेक भारतीय भाषाओं में हो चुकी है किन्तु छत्तीसगढ़ी में नहीं हुई थी । छत्तीसगढ़ अलग प्रदेश बनने तथा छत्तीसगढ़ी को राज भाषा का दर्जा मिलने के बाद भागवत मर्मज्ञ पं.

Tags: 

परिवार व समाज में सामंजस्य जरुरी

शक्ति छत्तीसगढ़ी ब्राह्मण महिला समाज का पहला वार्षिक सम्मेलन विप्र भवन में आयोजित किया गया । इसमें मुख्य अतिथि के रुप में पूर्व प्राचार्य प्रो.

Tags: 

Subscribe to RSS - छत्तीसगढ़ी