डॉ स्नेहलता पाठक

घर से हो चरित्र निर्माण

ajay tripathi,vipra,

घर से हो चरित्र निर्माण तब होगा समाज-देश-महान --- भारत में आज भी सामाजिक सुरक्षा का काम परिवार करता है। जिस कारण भारत की अर्थव्यवस्था पर ज्यादा बोझ नही पड़ता । परिवार केन्द्रित समाज की अर्थव्यवस्था होने के कारण से भारत की घरेलू बचत दर दुनिया में सब से ज्यादा 36 प्रतिशत है। जो भारत को समुचित विकास

Tags: 

मकर संक्रांति : उत्तरायण का पर्व

हमारा देश धर्म और प्रकृति प्रदान है। अत: यहां के हर पर्व प्रकृति से जुड़े होते है। प्रकृति हमारे जीवन में ही नहीं हमारी परंपराओं में भी महत्वपूर्ण स्थान रखती है। यही कारण है कि हमारे हर त्यौहार ऋतुओं के अनुसार ही आते है। इसी क्रम में मकर संक्रांति का पर्व भी मूलत: प्रकृति से जुड़ा पर्व है । संक्र

Tags: 

तुलसी और साहित्य

विश्व प्रसिद्ध एवं पूज्य महान महाकाव्य श्री राम चरित मानस विश्व साहित्य की सर्वोत्तम कृति है। गोस्वामी जील ने इसकी रचना करते समय अनेक प्रकारकी बातों को ध्यान में रखा होगा। उदाहरणार्थ शब्द योजना । गोस्वामी जी ने अनेक शब्द मानस में इस प्रकार से रखे कि उनका वास्तविक अर्थ एवं गोस्वामी जी का उद्देश्य

Tags: 

कार्तिक सुदी एकादशी- तुलसी विवाह

तुलसी पूजा का दिन विष्णु पुराण के अनुसार कार्तिक नवमी कार्तिक सुदी एकादशी को तुलसी विवाह के रूप में उगेख किया है किंतु अन्य धर्म ग्रंथों में प्रबोधिनी एकादशी को शुभ एवं फलदायी बताया गया हैं इसी दिन गोधूली बेला में भगवान सालिग्राम, तुलसी व शंख का पूजन करने से विशेष पुण्य की प्राप्ति होती है। लोग

Tags: 

प्रबोधिनी एकादशी

प्रबोधय अर्थात जाग्रत हो जाओ। उठो, आंखे खोलो, जीवन को कर्मपथ पर ले चलो। गीता के अनुसार हमारा धर्म कर्म पर आधारित है। धर्म तो कर्म पथ का दीप स्तंभ है जो प्रेरणा, स्फूर्ति एवं ताकत देता है। कर्म हीन मनुष्य धर्म शाल नहीं हो सकता.

Tags: 

विप्र वार्ता नवम्बर 13 अंक

विप्र वार्ता,नवम्बर,

विप्र वार्ता नवम्बर १३ का अंक आपके करकमलो में होगा आशा है विप्र एकता को समर्पित इस पत्रिका की सदस्यता ,विज्ञापन रूपी सहयोग प्राप्त होगा

Tags: 

Subscribe to RSS - डॉ स्नेहलता पाठक