नेतृत्व

वर्तमान में ब्राह्मण नेतृत्व उसका अस्तित्व

भारतीय संस्कृति राजनीति एवं सामाजिक परिवेश प्रारंभ से ही ऋषिमुनियों एवं ब्राह्मणों से प्रभावित एवं संचालित रही है। प्राचीन काल में राजों महाराजों के सलाहकार एवं राज पुरोहित ब्राह्म वर्ग से ही हुआ करते थे.

Tags: 

अनुशासन लोकतंत्र में अनिवार्य

15 अगस्त 1947 देश आजाद हुआ, आजादी के दीवानों में मंगल पाण्डेय , राजगुरू, भगत सिंह , चंद्रशेखर आजाद की बलिदान के नीव पर महात्मा गांधी के आदर्शों सत्य अहिंसा एवं अनुशासन के साथ गर्म नौजवानों के जो रक्त अंग्रेजी हुकुमत को भारत छोडऩे मजबूर कर दिया, लेकिन यह एक राजनैतिक सौदा था जिसके पीछे अंग्रेजों क

Tags: 

2009 का स्वागत

क्या नए वर्ष में देश की जवाबदार संस्थाएं अपनी पध्दति में कोई परिवर्तन कर

Tags: 

लोकतांत्रिक व्यवस्था में हर प्रकार के पिछड़ों एवं कमजोरों को नेतृत्व देना होगा

सामंत और जमींदार परिवारों के इन पढ़े- लिखे विलायत में पढ़े वकीलों, लंबे स्वतंत्रता आंदोलन से निकले विनम्र सदस्यों में से ज्यादातर ने अपना पेशा खेती बाड़ी लिखवाया था ।

Tags: 

Subscribe to RSS - नेतृत्व