पदोन्नति में आरक्षण का विरोध

अखिल भारतीय आरक्षण विरोधी मोर्चा
अखिल भारतीय आरक्षण विरोधी मोर्चा
अखिल भारतीय आरक्षण विरोधी मोर्चा
अखिल भारतीय आरक्षण विरोधी मोर्चा

सरकार द्वारा राज्यसभा में पदोन्नति में आरक्षण का विधेयक पेश करने के विरोध में शुक्रवार को दिल्ली स्थित जंतर-मंतर पर अखिल भारतीय आरक्षण विरोधी मोर्चा द्वारा धरना-प्रर्दशन किया व संसद का घेराव किया ! इस मौके पर मोर्चा के संस्थापक व अध्यक्ष संजय शर्मा ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। इस मौके पर विश्व ब्राहमण महासभा के अध्यक्ष पंडित मांगेराम शर्मा, पदोन्नति में आरक्षण समाप्त करने का सुप्रीम कोर्ट से केश
जीतकर आरक्षण विरोधियों का दिल जीतने वाले एम् नागराजन, राष्ट्रीय सवर्ण दल के अध्यक्ष आर सी गुप्ता, हिंदू महासभा के उपाध्यक्ष मदनलाल गोयल, सवर्ण समाज पार्टी की अध्यक्ष अर्चना श्रीवास्तव सहित अनेक गणमान्य लोग मौजूद थे !
धरने प्रर्दशन के बाद संसद का घेराव भी किया गया। इस प्रदर्शन में दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश,पंजाब, विहार, मध्यप्रदेश, गुजरात, आसाम, तमिलनाडु, उडीसा सहित कई अन्य राज्यों से हजारों लोगो ने हिस्सा लिया । इस मौके पर मोर्चा के अध्यक्ष संजय शर्मा ने प्रधानमंत्री को एक ज्ञापन सोंपकर सरकार को चेतावनी दी है कि अब ये आरक्षण की ज्यादिति विलकुल बर्दास्त नहीं की जायेगी, सडक़ से लेकर संसद तक इसका विरोध होगा। आरक्षण के माध्यम से योग्य प्रतिभाओं का हक छीनकर अयोग्य व नाकारा व्यक्तियों को दिया जा रहा है। जिससे प्रतिभाओं का भविष्य चौपट हो रहा है, और सरकार स्वस्थ्य प्रतियोगिता का मजाक उडा रही है। वहीं जातिगत आरक्षण के नाम आरक्षित वर्ग के अधिकारी, नेता, धनाडय व पूंतिपति लगातार उठा रहे है बल्कि जो लोग गरीब हैं उन्हें रिजर्वेशन की नहीं अपितु सरकारी मदद की आवश्यकता है, जिससे कि वो अपने बच्चों को पढा लिखाकर प्रतियोगिता के लायक बना सकें। आरक्षण के कारण सामान्य वर्ग के विद्यार्थी अच्छे अंक लाने के बाद भी मेडीकल या इंजिनिरिंग यहां तक कि ग्रेजुएशन करने के लिए भी दाखिला नहीं ले पा रहे है। आरक्षण के द्वारा फारवर्ड वर्ग के विद्यार्थियों से शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार छीना जा रहा है। आरक्षण के कारण अच्छे अंक लाने के बाद सामान्य वर्ग के प्रतिभावान प्रतियोगियों को नौकरी नहीं दी जा रही हैं, जबकि आरक्षित वर्ग केे अयोग्य लोगों को चुन लिया जाता है। उन्होंने कहा कि आरक्षित वर्ग से चुने गए इन्हीं प्रतियोगियों को कुछ ही वर्षों में पदोन्नत कर अपने ही सीनियर कर्मचारी का बॉस बना दिया जाता है, इस कारण पदोन्नति में आरक्षण से सामान्य अधिकारी और कर्मचारी त्रस्त हैं, वहीं इस बात को यह आरक्षित वर्ग अच्छी तरह से जानता है, इसीलिए अपने सीनियर के आदेशों की अवहेलना करता है और उस पर जातिसूचकों शब्द इस्तेमाल करने का आरोप लगाने से भी नहीं चूकते। पदोन्नति में आरक्षण माननीय सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार, न सिर्फ उत्तर प्रदेश वल्कि पूरे भारत वर्ष के सभी राज्यों से पूर्णतया समाप्त होना चाहिए। अखिल भारतीय आरक्षण विरोधी मोर्चा ने सरकार से मांग की है कि आरक्षण को समूल समाप्त करके सभी देशवासियों को भारतीय संबिधान में प्रदत्त समानता के अवसर उपलब्ध कराने की गारंटी को लागू किया जाएं। जाति व धर्म के आधार पर लगातार दिए जा रहे आरक्षण से देश में हीनभावना व जातिगत द्वेष फैलता जा रहा है, और समाज वर्ग संघर्ष की ओर बढ रहा है। आरक्षण से चुने हुए प्रोफेसरों के हाथों में विद्यार्थियों की शिक्षा की जिम्मेदारी देकर देश के भविष्य को कूंए में धकेला जा रहा है। यदि शिक्षा के क्षेत्र में आरक्षण आवश्यक है तो राजनेता व आरक्षण का लाभ ले रहे लोगों के बच्चों की शिक्षा भी आरक्षित शिक्षकों द्वारा सुनिश्चित होनी चाहिए, साथ ही उक्त लोग इस बात के लिए भी वाध्य होने चाहिए कि वह अपना व अपने परिवार के सभी सदस्यों का इलाज आरक्षण पाकर डाक्टर बनने वालों से ही कराएंगे अन्यथा उनके लिए भरतीय दंड संहिता में किसी धारा के तहत उचित दंड की व्यवस्था होनी चाहिए, क्योंकि जो व्यवस्था जनता पर थोपी गई है वही देश के राजनेताओं और आरक्षित वर्ग पर लागू होनी चाहिए। इस मौके पर पंडित मांगेराम शर्मा, मदनलाल गोयल, दीपक गौड, पंजाब पटियाला से बलदेव शर्मा, कपूरथला से सतीश शर्मा, विंग कमाडर सतीश शर्मा, अलीगढ से डा सीपी गुप्ता, प्रदीप शर्मा, आरसी गुप्ता, नन्दराम पाठक, बरेली से त्रिभुवन शर्मा, मथुरा से रामबाबू कौशिक बागपत से डा सुधीर शर्मा, गुवाहटी से प्रकाश भारद्वाज, मोनिका वर्मन, मध्यप्रदेश भोपाल से अर्चना श्रीवास्तव, राजस्थान जयपुर से संजय गर्ग, राजेश सिंह, अलवर से रामप्रकाश मिश्रा, विहार पटना से विनायक पाण्डेय और राजेश सिंह तौमर, फरीदाबाद से एडवोकेट मुकेश सिंगला, कन्हैया लाल सिंह, पंकज त्रेहन, गोपाल राणा, हरिशचन्द्र, दिल्ली से बीएम शर्मा, मदनलाल गोयल, हेमंत मिश्रा, उमेश बत्रा, विवेकानन्द सिंह, पार्षद कल्पना झा, पं रामभगत, विजयपाल शर्मा, योगेश कौशिक, राधेश्याम कौशिक, बीडी शर्मा, आर्यपु़त्र अनिल वत्स, यूएस राणा, मनु कौशिक, अशीष पंडित, आनंद मिश्रा, राजीव उपाध्याय, नितिन निचौडिया, मनीश अत्री अंशुल कौशिक, जींद हरियाणा से भारत वशिष्ठ, बनारस से यूके द्विवेदी, अजमेर से महेंद्र शर्मा के अलावा दिल्ली से ही एडवोकेट निहारिका शर्मा, एसपी दीक्षित, सुभाष, श्याम दुबे, केके झा, राहुल पुंडीर, धीरज भारद्वाज, अमित मिश्रा, रजनीश, धानसिंह, अम्रित गोयल, सुभाष शर्मा, नीशू पंडित, उमेश पंडित, अश्विनी कुमार त्रिपाठी, सुनील डोगरा, ओपी शर्मा, रणवीर डागर, शशिकांत शर्मा, श्रीहरि, हृदेश शर्मा, धमेंद्र शर्मा, डा एसपी पाण्डेय, डा जितेंद्र गुप्ता, डा अरविंद सिंह, डा राजेश अरोडा, हरीश, पं शशिभूषण गौड़, नरेश शर्मा, सर्वेश सिंह, मनीष शर्मा, महेंद्र उपाध्याय, देवेंद्र सिह, नागेंदर कश्यप, डा कोठारी, प्रसून मिश्रा, बॉबी कश्यप, राहुल बासनी, सुनील मारा, राहुल त्रिपाठी, अरविंद कुमार, रवि शंकर वार्ष्णेय, डा आरएल शर्मा, रतनदेव वार्ष्णेय, अवनीश, पंकज अग्रवाल, विष्णू माहेश्वरी जगमोहन गुप्ता, बुधपाल डा एके शर्मा, डा शिवकुमार शर्मा, संदीप मिततल, विपिन सिंह, राजेश कुमार, रवि कुमार, डा सतेंद्र सिंह, रवि कुमार, सुनील यारा, राजकुमार, विजय कुमार, सत्यप्रकाश, उमेश वार्ष्णेय, सागर शर्मा, व़ैद्य राजपाल सिंह, दीपक बंसल, उमेश प्रजापति, पुरूषोत्तम दुबे, पंकज श्रीवास्तव, म्रगंक शर्मा, विनोद कुमार, सुबोध, रामकुमार, धमेंद्र, मिथलेश झा, ठाकुर प्रसाद पाठक, नरेश शर्मा, अलवान शर्मा, नेमचंद शर्मा, गौरव शर्मा, नरेंद्रपाल सिंह, जोगिंद्र सिंह, कमल कुमार, सुरेंद्र सिंह, इकबाल सिंह, जोगिंदर, समरजीत सिंह, सीवी सिंह, राजेश मिश्रा, चमन, पी कुमार, बलविंदर सिंह, भागसिंह, पुष्पेंद्र सिंह, सुनील भारद्वाज, अखिलेश गौड़, सतीश, एचबी सिंह, कुलदीप कुमार, जितेंद्र दुबे, कुलदीप सिंह, आरके शर्मा, युधबीर सिंह दलाल, सोनू छत्रिय, डा एके हरलोई, जैमिनी शर्मा, मोहेंद्रा सैलाड, वीरेंद्र बरमन, कुमरपाल शार्मा, संजय दीक्षित, राधे शर्मा, हरदेश कुमार शर्मा, रामसिंह, किरण सिंह, बसंतसिंह, पंकज, भगवान सिंह, कैलाश चंद गुप्ता, बीएस यादव, सुनील सिंह, धमेंद्र, मगनसिंह, डा भारत के वार्ष्णेय, निनेंद्र सिंह, अखिलेश बैरागी, चंद्रमासिंह, डा राजीव गुप्ता, उमाशंकर, राजपाल सिंह, जगमोहन लाल गुप्ता, अरूण कुमार, जगदीश सिंह, अर्चित सिंह, अशोक पवार, सचिन राजपूत, प्रभात रंजन व सर्वण सिंह हजारों आरक्षण विरोधी लोगों ने इस धरने प्रर्दशन में हिस्सा लिया।

Tags: