परिवार परिचय सम्मलेन वैवाहिक संबंधों की पहली कड़ी

मिलन 2016 परिवार स मेलन के मौके पर मु अतिथि महापौर प्रमोद दुबे ने अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज के समय में मिलन का काम ही बहुत कठिन होता है। फिर चाहे वह दोस्त हो, दुश्मन हो या रिश्तेदार हों। इससे भी कठिन काम है विप्रजनों को मिलाने का काम बेहद कठिन होता है। मेल-मिलाप से कटुता दूर होती है और रिश्ते प्रगाढ़ होते हैं। श्री दुबे ने आयोजन की सार्थकता की ओर संकेत करते हुए विवाह संबंधों में कन्या के पिता के दर्द को बयान करते हुए बताया कि एक पिता योग्य वर की तलाश में गांव-गांव, शहर दर शहर भटकना पड़ता है। श्री दुबे ने इस सफल आयोजन के लिए सर्व युवा ब्राह्मण परिषद, वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन तथा विप्रवार्ता टीम को बधाई दी।
इससे पूर्व दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। ब्राह्मण समाज के वरिष्ठजन श्री बीडी उपाध्याय ने कार्यक्रम के शुभारंभ पर आशीर्वाद देकर आयोजन को सार्थक बताया और कहा कि ऐसे आयोजनों में सक्रिय भागीदारी से समाज में एका होगी।
सर्व युवा ब्राह्मण परिषद छत्तीसगढ़, वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन एवं विप्र वार्ता परिवार के संयुक्त आयोजन मिलन 2016 परिवार परिचय स मेलन आयोजन गत 20 नवंबर को आशीर्वाद भवन में संपन्न हुआ। इस अभूतपूर्व तथा यादगार आयोजन में बंगाली, गुजराती, महाष्ट्रीयन तथा दक्षिण भारतीय ब्राह्मणजनों सहित समस्त विप्रजनों ने भी सहभागिता दर्ज की।
श्री अजय त्रिपाठी ने आयोजन के संबंध में बोलते हुए कहा कि यह आयोजन विप्रवार्ता तथा वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन, सर्व युवा ब्राह्मण परिषद की एक बड़ी टीम के अनथक प्रयास का सुफल है। इस स मेलन के आयोजन का मु य उद्देश्य विवाह संबंधों में अभिभावकों की परेशानी बड़ी हद तक आसान कर दिया है। इस स मेलन के माध्यम से रिश्ते ढूंढऩे में आसानी होगी। रिश्ते बनाने में होने वाली परेशायिों को दूर करने तथा सर्व ब्राह्मण समाज में वैवाहिक संबंध बना सकते हैं। परिवारों का परिचय होगा तो संबंध बनेंगे। इस क्रम में परिवार परिचय स मेलन वैवाहिक संबंधों की पहली कड़ी है। इसके माध्यम से लोग संबंध बनाने की पहल कर सकते हैं। वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन ने गैर हिंदीभाषी लोगों को जोडऩे के लिए यह आयोजन किया है। बहुत कम समय, सीमित साधनों तथा सीमित प्रचार के बाद भी समस्त ब्राह्मणों के युवक-युवतियों की जानकारी मिलन 2016 में प्रकाशित की गई है। इसके माध्यम से संबंध बनेंगे ऐसी आशा है। श्री त्रिपाठी ने कहा कि इसका एक अन्य लाभ यह भी है कि आने वाली संतति को वर्ण संकर से बचाया जा सकेगा। इस पत्रिका में 15 नवंबर तक प्राप्त पंजीयनों का प्रकशन किया गया है। इसके बाद अब तक चार सौ से अधिक पंजीयन प्राप्त हुए हैं। शेष पंजीयनों का प्रकाशन शीघ्र द्वितीय अंक प्रकाशित किया जाएगा। इस पत्रिका के माध्यम से उपयुक्त जीवन साथी की तलाश संभव होगी तथा हम अपने संस्कारों को कायम रखने सफल होंगे। कार्यक्रम से पहले संस्कृत विद्यालयों के छात्रों ने पूर्ण विधि-विधानों के साथ स्वस्तिवाचन किया।
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि क्रेडा अध्यक्ष पुरंदर मिश्रा ने कहा कि इस पहले आयोजन की सभी को बधाई। उन्होंने आयोजक मंडल को भोजन व्यवस्था के लिए 21 हजार रुपए दिए और इसे ब्राह्मणों अपना सौभाग्य बताया कि उन्हें यह मौका मिला कि वे ब्राह्मणों को भोजन करा सकें। धमतरी से आए श्री जानकी प्रसाद शर्मा ने कहा कि कोई भी कार्य के लिए शक्ति की कारूरत पड़ती है। और हमारे पास ब्रह्म शक्ति है लेकिन क्या कारण है कि वर्तमान में हम अपनी संस्कृति और संस्कार को बचाए रखने में सफल नहीं हो पा रहे हैं। इससे हमारी स्थिति में ह्रास हुआ है। हम फिर से संगठन के जरिए अपनी शक्ति को प्राप्त करें इस दिशा में यह परिवार स मेलन निश्चित ही हमें शक्ति मिलेगी। धमतरी ब्राह्मण समाज की ओर से उन्होंने पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया। राजनांदगांव से आए कार्यक्रम के सहसंयोजक श्री रमेश पटाक ने कार्यक्रम ने ब्राह्मण समाज को एकजुट करने में बड़ी भूमिका निभाई है। इस सफलता के लिए मैं इस काम में जुटे सभी लोगों का अभिनंदन करता हूं और उनका आभार भी मानता हूं। यह समाज के प्रति किया गया एक बड़ा महत्वपूर्ण कार्य है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्री राकेश शर्मा ने कहा विप्रजनों नारी शक्ति को प्रणाम कर कहा कि हम लोग काम करने के आदी हैं, यदि मुझे कोई समाज का कोई काम सौंपा जाता तो यह मेरा सौभाग्य होता। ब्राह्मण समाज का गौरवपूर्ण वृहद इतिहास रहा है, उसे आगे बढ़ाने की आवश्यकता है। वर्तमान समय में लोकतंत्र की एकता की आवश्यकता है। अजय त्रिपाठी जी ने यह जो काम किया है वह सफल हो ऐसी मैं कामना करता हूं। प्रदेश के विभिन्न स्थानों सहित अन्य राज्यों महाराष्ट्र, उड़ीसा से दो हजार से अधिक लोग परिचय स मेलन में स िमलित हुए। आयोजन की सफलता का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि कार्यक्रम स्थल पर ही अनेक पंजीयन तो हुए ही अनेक परिवारों ने आपस में बातचीत की। विभिन्न स्थानों से लोगों ने फोन कर अभूतपूर्व कार्यक्रम की सफलता के लिए शुभकामनाएं दी और आगे होने वाले कार्यक्रमों में शामिल होने की इच्छा प्रकट की। समग्र ब्राह्मण प्रांतीय महासभा के अध्यक्ष वीरेन्द्र पांडे ने अपने उद्बोधन में विवाह संस्कार को महत्वपूर्ण बताया और कहा कि जीवन के सभी 16 संस्कारों में यही एक ऐसा संस्कार है जिससे दो परिवारों का मिलन होता है और परिवार आगे बढ़ते हैं। ऐसे आयोजन लगातार होते रहें इसके लिए हमें अभी भी बहुत काम करना शेष है। इस अवसर पर वैवाहिक पत्रिका मिलन 2016 पत्रिका का विमोचन उपस्थित अतिथियों ने किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता मु यमंत्री सडक़ योजना के कार्यपालन यंत्री श्री राकेश तिवारी ने की। अन्य अतिथियों में क्रेडा अध्यक्ष श्री पुरंदर मिश्रा, वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन के श्री मंतूराम शर्मा, धमतरी से श्री जानकी प्रसाद शर्मा, बिलासपुर से श्री शिवाकांत मिश्रा आदि थे। परिवार परिचय स मेलन में सर्व ब्राह्मण समाज के विभिन्न प्रदेशों व प्रदेश के बिलासपुर, जांजगीर, धमतरी, कांकेर, सरायपाली से दो हजार से अधिक महिलाओं तथा पुरुषों की उपस्थिति दर्ज हुई। आयोजन की सफलता के लिए संयोजिका कुसुम शर्मा, सुनीता शर्मा, गुणनिधि मिश्रा, पंकज पाल, अरविंद ओझा, रज्जन अग्निहोत्री ने सार्थक मेहत की। कार्यक्रम का संचालन अजय अवस्थी तथा सुनीता शर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन ्अविनय दुबे ने किया। पूर्व विधायक चंद्रप्रकाश बाजपेयी, शिवा मिश्रा बिलासपुर, अजय मिश्रा, रेखेन्द्र तिवारी, योगेश मिश्रा, राजकुमार दुबे, नीतिन झा, ओमप्रकाश मिश्रा, प्रदीप पाण्डे, संजय अवस्थी, अमित रमेश शर्मा, प्रदीप सीतुत, ममता राय, मिथलेश रिछारियां, सीमा पाण्डेय, सकुंतला तिवारी, नमिता शर्मा, बबीता दुबे, अंकित शुक्ला, मीनाक्षी बाजपेयी, शर्मिला शुक्ला, निशा पाण्डेय, छाया दुबे, कर्णा तिवारी, सुमन मिश्रा, अखिलेश्वरी शुक्ला, सरीता दुबे, सुमन तिवारी, हरेराम तिवारी, ओम शर्मा, विनोद मिश्रा, विजय त्रिपाठी, सुमन पुरोहित, पी. भानुजी राव, राकेश तिवारी, संजय त्रिपाठी, स्वराज तिवारी, विनय पाण्डेय, संजय चतुर्वेदी, दशरथ शुक्ला, प्रदीप पाण्डेय, संजय मिश्रा, सुरज तिवारी, मीनकेतनदास, शंर्कीतन मिश्रा, बलदेव मिश्रा, अरविंद शुकला, सुरेश मिश्रा, संतोष द्विवेदी, जितेन्द्र शुक्ला, अंजली दुबे, मनीषा मिश्रा, राजेश शर्मा, सनत पाण्डेय, एन.वी. शंकर, राजेश सिंग, शैलेश मिश्रा, मनोज शुक्ला, प्रशांत शर्मा, राजकुमार अवस्थी, श्रीमती एस. शुक्ला, सहित बड़ी सं या में पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं के साथ युवक/युवतियां व उनके अभिभावक गण शामिल होकर कार्यक्रम को सफल बनाये
स मेलन स्थल से लगातार प्रस्ताव आ रहे
शिवाकांत त्रिपाठी ने कार्यक्रम की भव्यता और सफलता के लिए बधाई दी और बताया कि स मेलन स्थल पर वितरित की गई आपकी पत्रिका मिलन 2016 के माध्यम से लगातार फोन पर प्रस्ताव आ रहे हैं। मैं आपके इस आयोजन से अभिभूत हूं।
ऐसे स मेलन होते रहें
बिलासपुर से रेखेन्द्र तिवारी के साथ आए अभिभावकों के एक दल ने कार्यक्रम को सफल माना और बताया कि कहीं न कहीं बातचीत का सिलसिला आरंभ हो गया है। हमारी कामना है कि ऐसे कार्यक्रम लगातार होते रहें तो वैवाहिक संबंध ढूंढऩे में होने वाली दिक्कतें बड़ी हद तक कम हो जाएंगी। मिलन परिवार परिचय पत्रिका का प्रकाशन वार्षिक किया जाना चाहिए तथा साथ ही ऐसे आयोजन भी।
गलती हुई, हम नहीं आए
कवर्धा से डॉ. सुरेश शर्मा ने बताया कि हमसे यह गलती हो गई कि सर्व युवा ब्राह्मण समाज के आयोजन मिलन 2016 परिवार परिचय स मेलन में हम शामिल नहीं हो सके। इस पत्रिका में कुछ और लोगों के नाम जुड़वाना है। भविष्य में इसका प्रकाशन तथा इस प्रकार का स मेलन हो तो हमें अवश्य सूचित करें हम अवश्य शामिल होंगे। मील का पत्थर बनेगा यह परिवार परिचय स मेलन भिलाई की अनुराधा राव ने बताया कि यह न केवल अभूतपूर्व आयोजन है वरन ऐतिहासिक भी। आने वाले समय में समस्त भाषाभाषी ब्राह्मण समाज के लोग आपस में ऐसे स मेलनों में मिलेंगे। ब्राह्मण समाज में अंतरभाषी लोगों में वैवाहिक संबंध बनेगे और इस प्रकार आने वाले समय में ब्राह्मण एकता की दिशा में आज का यह परिवार-परिचय स मेलन मील के पत्थर के रूप में जाना जाएगा।

Tags: