पाठ

युवाओं के लिए संस्कारवान होना आवश्यक

आज की पीढ़ी में संयम तथा संवेदना का अभाव है। जिसका मुख्य कारण तामसी खानपान, आचार तथा व्यवहार है। चैनलों पर दिखाये जाने वाले अश्लील और उत्तेजनात्मक सीरियल भी इन बातों को बढ़ावा देते हैं। इसका इलाज यही है कि बचपन में ही बच्चों को आत्मसंयम का पाठ पढ़ाया जाये। उनको अच्छे संस्कारों की शिक्षा दी जाये।

Tags: 

गुरुकुल में वेदों का अध्यापन

वर्तमान में जहां अभिभावकों में अपने बच्चों को डॉक्टर व इंजीनियर बनाने की होड़ मची है वहीं देश में कई अभिभावक ऐसे भी है जो अपने बच्चों को भारतीय संस्कृति व वेदों की शिक्षा दिलाने में रूचि ले रहे हैं । जिले के ग्राम कोसरंगी के गुरूकुल में ऐसे करीब 50 बच्चे विभिन्न राज्यों से अपनों अभिभावकों के सपने

Tags: 

Subscribe to RSS - पाठ