प्रदेश में संस्कृत विश्व विद्यालय स्थापित करने की मांग।

 छत्तीसगढ़ के प्रतिनीधि मंडल की मुख्यमंत्री से भेंट
 छत्तीसगढ़ के प्रतिनीधि मंडल की मुख्यमंत्री से भेंट
 छत्तीसगढ़ के प्रतिनीधि मंडल की मुख्यमंत्री से भेंट
 छत्तीसगढ़ के प्रतिनीधि मंडल की मुख्यमंत्री से भेंट
 छत्तीसगढ़ के प्रतिनीधि मंडल की मुख्यमंत्री से भेंट
 छत्तीसगढ़ के प्रतिनीधि मंडल की मुख्यमंत्री से भेंट
 छत्तीसगढ़ के प्रतिनीधि मंडल की मुख्यमंत्री से भेंट

वर्ल्ड ब्राम्हण फेडरेशन छत्तीसगढ़ के प्रतिनीधि मंडल की मुख्यमंत्री से भेंट।
सामान्य वर्ग के छात्रों के लिये छात्रावास हेतु एक एकड़ भूमि उपलब्ध कराने का निर्देष।
रायपुर, वर्ल्ड ब्राहमण फेडरेषन छत्तीसगढ़, सर्व युवा ब्राहमण परिषद छत्तीसगढ एवं विप्र वार्ता परिवार के प्रतिनिधी मंडल ने आज प्रदेष के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंग से उनके निवास कार्यालय पर भेंट कर प्रदेष मे संस्कृत विष्वविद्यालय कि स्थापना, माध्यमिक विद्यालयांे मे संस्कृत षिक्षक कि अनिवार्य भर्ती करने, षासकीय अभियांत्रिक महाविद्यालय रायपुर का नामकरण एवं सामान्य वर्ग छा़त्रो के लिए छात्रावास निमार्ण हेतू भूमि व अनुदान देने का ज्ञापन साैंप कर मांग की प्रतिनिधी मंडल में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अजय त्रिपाठी, महापौर प्रमोद दुबे, पूर्व नेता प्रतिपक्ष नगरनिगम सुभाष तिवारी, संरक्षिकागण पूर्व पार्षद श्रीमति रमा देवी षर्मा, श्रीमति सावित्री बेन जोषी, श्रीमति षोभा तिवारी, डॉ. अषोक त्रिपाठी महासचिव बाल कल्याण परिषद, प्रांतीय अध्यक्ष अरविंद ओझा, प्रांतीय महिला अध्यक्ष श्रीमति निरजा षर्मा, प्रांतीय युवा अध्यक्ष अविनय दुबे, सहित विप्र जन षामिल थे। मुख्यमंत्री डॉ0 रमन सिंह नें पूर्व में घोषित षासकीय अभियांत्रिक महाविद्यालय रायपुर के नामकरण अमर षहीद लेफ्टिनेंट अरविंद षंकर दीक्षित षासकीय अभियांत्रिक महाविद्यालय रायपुर किये जाने पर अपनी सहमति प्रकट करते हुए विभाग को निर्देष जारी किये। छत्तीसगढ़ प्रदेश में संस्कृत विष्वविद्यालय स्थापित करने की मांग पर डॉ0रमन सिंह नें विष्वविद्यालय की उपयोगिता पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि प्रदेश के एक मात्र संस्कृत महाविद्यालय में ग्रंथालय एवं शोध करनें सहित सभी सुविधाऐं उपलब्ध हैं। जिसके माध्यम से प्रदेश में छात्रों को संस्कृत की सर्वोत्तम उच्च शिक्षा प्रदान की जा सकती है। प्रदेश के सभी माध्यमिक विद्यालयों में कम से कम एक संस्कृत षिक्षक उपलब्ध कराने की मांग पर, उन्होंने अपनी प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए संस्कृत षिक्षकों की योग्यता अनुसार भर्ती एवं मापदंड में परिवर्तन करनें के लिये सुझावों पर विभाग को निर्देष जारी किये, रायपुर षहर में सभी वर्गों के छात्रों के लिये छात्रावास की व्यवस्था पर चर्चा करते हुए समान्य वर्ग के छात्रों के लिये भी छात्रावास के निर्माण पर भूमि व अनुदान की मांग पर भी मुख्यमंत्री द्वारा उदारता से सहयोग करने का आष्वासन दिया। उन्होंने जिला प्रषासन को भूमि आबंटन हेतु निर्देष जारी किये। प्रतिनीधि मंडल नें मुख्यमंत्री के प्रति अपनी प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए तीसरे कार्यकाल में सफलता पूर्वक प्रवेष पर अपनी षुभकामनाऐं दी। उन्होंने कहा कि ब्राम्हण वर्ग का सदैव से उन पर आषिर्वाद रहा है, वे संकल्पित होकर ब्राम्हणों के उत्थान के लिये कार्य करने तत्पर हैं। प्रतिनिधी मंडल नें डॉ0 रमन सिंह से और विप्र प्रतिनीधियों की नियुक्ति विभिन्न पदों पर करनें की मांग की। इस अवसर पर हेमंत तिवारी, गुणनिधि मिश्रा, श्रीमति करूणा तिवारी(अधिवक्ता) ,श्रीमति अनुराधा राव, श्रीमति षोभना पाठक, श्रीमति मिथलेष रिछारिया, नितिन झा, श्रीमति सुधा बेन जोषी, श्रीमति सुषीला बेन जोषी, षामिल थी।

Tags: