ब्राह्मण युवा को कौशल में श्रेष्ठतम प्रदर्शन करना होगा

ajay tripathi
सुशील त्रिवेदी,IAS,गोविन्द लाल वोरा,
विप्र,वार्ता,
गोष्ठी,सम्मान समारोह,

रायपुर। आज ब्राह्मण समाज को अपनी श्रेष्ठता, विद्वता का अहंकार त्याग कर सभी वर्गों के साथ मिलकर चलने की आवश्यकता है। ब्राह्मण सदा से समाज का वैचारिक नेतृत्व करता रहा है। अत: आवश्यकता इस बात की है कि आज बदलते हुए परिवेश में ब्राह्मण मतभेद भुलाकर सभी वर्गों को अपने साथ लेकर चले। मेरा सुझाव यह भी है कि अपने वैचारिक एवं रचनात्मक कार्यक्रमों में अन्य वर्गों के लोगों को भी सम्मिलित करे, उनके सुझावों एवं रचनात्मक प्रयास का स्वागत करे तभी सामाजिक क्रान्ति आयेगी। सर्व युवा ब्राह्मण परिषद छत्तीसगढ़, वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन छत्तीसगढ़, विप्र-वार्ता परिवार एवं विप्र-संगठनों के द्वारा सिविल लाईन्स स्थित वृंदावन सभागृह में सामाजिक सरोकार विषय पर आयोजित विचार गोष्ठी के अवसर पर मुख्य अतिथि के आसंदी से वरिष्ठ पत्रकार गोविंदलाल वोरा जी ने कही। महान दार्शनिक सुकरात की बहुत सी महान बातों में एक बात ये भी है कि उन्होंने अपने लोगों को सवाल करना सिखाया ,,
ये बात बहुत बड़ी है ,,सवाल वही करेगा ,जो जिज्ञासा से भरा होगा, जिसे सही गलत की ज्यादा से ज्यादा समझ होगी और उन्होंने अपने अनुयायियों में यही क्षमता पैदा की . यही बात अक्षरशःहमारे देश के ब्राह्मणों पर लागू होती है . उन्होंने सदियों से समाज मे धार्मिक,पौराणिक कथाओं के माध्यम से सामाजिक शिक्षा दी . स्वच्छता,रहन सहन,अहिंसा,करुणा, प्रेम और सही गलत क्या है , इस पर सवाल उठाने की क्षमता दी. आज इस वर्ग की सर्वाधिक उपेक्षा हो रही है . इस दुर्दशा से उबरने के क्या उपाय हो सकते हैं कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डॉ. सुशील त्रिवेदी ने कहा कि समाज में यदि आर्थिक, सामाजिक एवं राजनैतिक उपलब्धि हासिल करनी है तो सभी अभिभावकों को अपने बच्चों को पढ़ाई, खेल तथा अन्य कौशल में श्रेष्ठतम स्थिति में लाना होगा तभी उनका जीवन सुखमय होगा। श्री त्रिवेदी ने कहा कि देश में 15 अगस्त एवं 26 जनवरी के अवसरों को हमें भूलना नहीं चाहिये जबकि आजाद भारत में अन्य देशों के मुकाबले लोकतंत्र में महिलाओं सहित सभी वर्गों को वोट का अधिकार मिला जिससे हमारा लोकतंत्र एक ओर मजबूत हुआ वहीं दूसरी ओर राजनैतिक ताकतों ने अपने स्वार्थ के लिये देश को कई वर्गों में बांट दिया जिसे भुलाकर सामाजिक समरसता लाने की आवश्यकता है। आज देश मे हर साल 1 लाख 20 हजार शिक्षित बेरोजगार युवक तैयार होते हैं और नोकरियाँ पैदा होती हैं कुल 15 लाख , 10 लाख इंजीनियर पढ़कर निकलते हैं उनमें से 1 लाख काबिल होते हैं, उन्हें भी नॉकरी के लिए गलाकाट प्रतिस्पर्धा से गुजरना होता है, उनके लिए भी नोकरी पाना आसान नही . ऐसे में ब्राह्मण युवा जिसे किसी तरह का आरक्षण नही वो कहाँ हैं ? यदि उसे राजनीतिक,सामाजिक,आर्थिक क्षेत्र में सफलता पानी है तो शिक्षा, खेल,साहित्य,संगीत,कला और कौशल में श्रेष्ठतम प्रदर्शन करना होगा . तभी उसका जीवन सुखमय होगा .वरिष्ठ पत्रकार गोविंद लाल वोरा ने कहा कि ब्राम्हण समाज को सबको साथ लेकर चलने की आवश्यकता है तभी एक सामाजिक क्रांति आएगी . ब्राह्मण को अपना अहम त्याग कर सभी वर्गो को साथ लेकर चलना चाहिए.कार्यकम का संचालन नितिन शर्मा ने किया तथा आभार गुणनिधि मिस्र ने व्यक्त किया विशिष्ट अतिथि अरुण शुक्ला ने कहा कि ब्राह्मण, युवा एक दूसरे से जुड़ें, एक बड़ा नेटवर्क तैयार करें ताकि आपस में आत्मीयता बढ़े। एक-दूसरे को प्रोत्साहन मिले और व्यापार तथा शिक्षा में उन्नति प्राप्त कर सकें। आज ब्राह्मण की स्थिति शंख फूंकने और पुष्प वर्षा करने वाले की हो गयी है कारण यही है कि हमने अपने मतभेद के कारण अपनो से दूरियां बना ली हैं .युवाओं को इस दिशा में आगे आना होगा और बेहतर करना होगा कार्यक्रम में विशेष रूप से सचिव संजय अवस्थी, उपाध्यद्वय गिरिजाशंकर दीक्षत, शकुंतला तिवारी, डॉ. स्नेहलता पाठक, अंतराष्ट्रीय कवि संजीव ठाकुर, सुरेश मिश्रा, पत्रकार मधुकर द्विवेदी उपस्थित थे। इस अवसर पर स्वागत भाषण प्रस्तुत करते हुए राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अजय त्रिपाठी ने कहा कि वर्तमान परिदृश्य में सामाजिक एकता लाने के लिये हम सर्व ब्राह्मण परिवार परिचय सम्मेलन एवं विप्र-बन्धु नेटवर्क जैसे कार्यक्रमों को संचालित किया जा रहा है। कार्यक्रम संयोजक अजय अवस्थी किरण ने विचार गोष्ठी का आधार वक्तव्य देते हुये कहा कि ब्राह्मण सदियों से जब देश में साक्षारता का प्रतिशत बहुत कम था लोगों को सामाजिक शिक्षा देने का काम करता रहा, समाज को स्वच्छता रखने, सही-गलत की समझ विकसित करने और सार्थक प्रश्न करने की क्षमता दी।
कार्यक्रम में वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन इंडिया में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व करने वाले राष्ट्रीय पदाधिकारियों में अजय त्रिपाठी, अरविंद ओझा, गुणानिधि मिश्रा, पी. भानुजीराव, सुनीता शर्मा, अनुराधा राव, शिवाकांत त्रिपाठी, बबीता दुबे, अखिलेश्वरी शुक्ला, सुमन मिश्रा, नमिता शर्मा, युवा अध्यक्ष अविनय दुबे का अंगवस्त्र एवं सम्मान पत्र देकर अतिथियों ने सम्मानित किया। इस अवसर पर अतिथियों का स्वागत एवं सम्मान नितिन शर्मा, नितिन कुमार झा, पं. शीबू शुक्ला, राघवेन्द्र पाठक, प्रदीप पाण्डे, रज्जन अग्निहोत्री, सुबोध शर्मा, जितेन्द्र शुक्ला ने किया।। कार्यक्रम में राधा तिवारी, ज्योति शर्मा, सत्येन्द्र तिवारी, मीनाक्षी बाजपेयी, सरिता दुबे, आशीष मिश्रा, प्रभात चतुर्वेदी, दिलीप झा, प्रमिला शर्मा, सुधा त्रिपाठी, सतीश शर्मा, राजेन्द्र शर्मा, जयंत उपाध्याय सहित काफी संख्या में विप्रजन उपस्थित थे।

Tags: