राजनीती और समाज को धर्म सम्मत चलने का कार्य ब्राह्मण का

ब्रह्मोउत्शव
ब्रह्मोउत्शव
ब्रह्मोउत्शव

रायपुर । छत्तीसगढ़ के राजनैतिक, सामाजिक परिवेश को धर्म सम्मत चलाने का कार्य ब्राह्मण को करना होगा। छत्तीसगढ़ सहित देश में सदैव ब्राह्मण अपनी इस भूमिका का निर्वाह करते रहे हैं। यह विचार आज राजिम के विधायक एवं कार्यक्रम के मुख्यअतिथि संतोष उपाध्याय ने ब्र होत्सव 2014 के अवसर पर व्यक्त किये । श्री उपाध्याय ने कहा कि छत्तीसगढ़ के नेतृत्व अनादिकाल से ब्राह्मणों के हाथ में रहा है। राजाओं को सदैव ब्राह्मणों ने धर्म सम्मत राह पर चलने की प्रेरणी दी है जिसका परिणाम आज देश के चौमुखी विकास के रूप में हमारे सामने आया है। सर्व युवा ब्राह्मण परिषद द्वारा ब्रह्मोत्शव 2014 के अवसर पर विप्र वार्ता के 100 वें अंक का विमोचन एवं सम्मान समारोह का आयोजन आज आर्शीवाद भवन में स पन्न हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व विधायक एवं समग्र ब्राह्मण प्रांतीय महासभा के अध्यक्ष विरेन्द्र पाण्डेय ने की। कार्यक्रम में अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री त्रिलोकी नाथ सिधरा नागपुर, श्रीमती डॉ. मंजू शुक्ला राष्ट्रीय महिला अध्यक्ष बरेली उ.प्र., श्रीमती रेखा चतुर्वेदी राष्ट्रीय महामंत्री नागपुर, श्री उमाशंकर तिवारी सचिव राऊरकेला उड़ीसा, श्री चंद्रप्रकाश बाजपेयी पूर्व विधायक सीपत विशेष अतिथि थे। कार्यक्रम का प्रारंभ सुबह एक राष्ट्रीय विचार गोष्ठी के साथ हुआ जिसका विषय राष्ट्रीय ब्राह्मण संगठनों में समय समन्वयन वर्तमान समय की आवश्यकता है था जिस पर श्री त्रिलोकी नाथ सिधरा ने वर्तमान समय में ब्राह्मण संगठन की आवश्यकता को प्रतिपादित करते हुए कहा कि संगठनों में समन्वय देश में ब्राह्मणों की वैचारिक पृष्ठभूमि एवं उपवर्गीय ब्राह्मणों के संगठनों के आधार पर बने हैं जिनके कार्य क्षेत्र उन वर्गों के ब्राह्मणों के निवास क्षेत्रों के आधार पर अलग अलग क्षेत्रों में मजबूत एवं संगठित हैं। राष्ट्रीय गोष्ठी में डॉ. मंजु शुक्ला ने कहा कि महिलाएं यदि घर परिवार के जि मदारी के साथ समाज को अपना समय देने के लिए खड़ी होंगी तो विचारों में सार्थकता आएगी और हमारी धर्म संस्कृति में समन्वय रखकर ब्राह्मणों का संगठन एक व मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर वे स्वयं अन्य संगठनों के साथ मिलकर राष्ट्रीय समन्वय समिति के इस विचार को मुर्तरूप देने की दिशा में पहल करेंगी। गोष्ठी को शिवा मिश्रा, आलोक तिवारी, रज्जन अग्निहोत्री, शिवाकांत त्रिपाठी, योगेश मिश्रा, विमलेश बाजपेयी, डॉ. विजय तिवारी, राजकुमार दुबे, मुन्नालाल दुबे, सुधीर शर्मा, हरेराम तिवारी रायगढ़, संजय अवस्थी, अनुराग मिश्रा, सतीश शर्मा, राघवेन्द्र पाठक, हेमन्त तिवारी, ज्ञानेन्द्र पाण्डेय, शैलेष मिश्रा, बाबूलाल तिवारी, धनंजय त्रिपाठी, रामकिशन शर्मा, अंकुर ओझा, आदित्य मिश्रा, अशोक शर्मा, वीरेन्द्र अवस्थी, दिव्यप्रकाश दुबे, मनोज शुक्ला, नागेन्द्र पाण्डेय, उमेश तिवारी, अखिलेश्वरी शुक्ला, सुभाष चन्द्र मिश्रा, उमाशंकर त्रिपाठी, अर्जुन प्रसाद तिवारी राजिम आदि ने अपने विचार रखें।
ब्र होत्सव 2014 खुला सत्र एवं स मान समारोह में संगीत साधक पं. रविशंकर व्यास, वरिष्ठ साहित्यकार एवं विप्र संगठक इंजी. अमरनाथ त्यागी, वरिष्ठ महिला संगठक श्रीमती कांति उपाध्याय,अप्रवासी विप्र धर्मरक्षक के रूप में आदित्य नारायण शुक्ला, विप्र वार्ता के वेव सलाहकार अशोक शर्मा का स मान इस अवसर पर किया गया। कार्यक्रम का आरंभ सरस्वती एवं परशुराम जी के पूजा अर्चना के साथ किया गया खुला सत्र की अध्यक्षता करते हुए श्री विरेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि पुरातन भारत का निर्माण चाणक्य ने और आधुनिक भारत का निर्माण महामना मदन मोहन मालवीय ने किया था। इस पत्रिका के कव्हर पृष्ठ पर दोनों महान हस्थियों का चित्र यह इंगित करता है कि भारत के निर्माण में ब्राह्मण अपनी महति भूमिका का निर्वाह सदैव से करता आया है और करता रहेगा। समग्र विकास की दिशा में भारत को ले जाने के लिए वर्तमान राजनीति जो जातियों के टुकड़े में भारत को बांटने की दिशा में ले जा रही है उसे रोकने के लिए ब्राह्मण को संगठित होकर सभी समाजों के संगठनों में समन्वय बनाकर सभी के विकास की कल्पना को साकार रूप प्रदान करना होगा। स्वागत भाषण प्रस्तुत करते हुए विप्र वार्ता के अध्यक्ष अजय त्रिपाठी ने पूर्व में कि ये गये कार्यकलापों का विस्तार से वर्णन किया एवं अपनी कार्य योजना के रूप में अतिथियों के समक्षत्र छात्रावास निर्माण की महति योजना प्रस्तुत की। विप्र वार्ता पत्रिका के प्रकाशन में देश भर के संगठनों द्वारा अपना विश्वास व्यक्त किये जाने पर अजय त्रिपाठी ने सभी के प्रति आभार प्रदर्शित किया । विशेष अतिथि पूर्व पार्षद श्रीमती रमा देवी शर्मा, प्रो. ए.एन. चौबे गोंदिया, विकास उपाध्याय, सुभाष तिवारी, शंकर पाण्डेय, संजय पाठक, गोविन्द मिश्रा, श्रीमती प्रभा पाण्डेय उपस्थित थी। कार्यक्रम में कान्य कुब्ज सभा के सचिव श्री राघवेन्द्र मिश्रा, दशरथ शुक्ला, राजकुमार अवस्थी, हेमन्त तिवारी, सुनीता चंसौरिया, प्रदीप पाण्डेय, आलोक पाण्डेय, यशवंत पुरोहित, सतेन्द्र पाण्डेय,प्रदीप पाण्डेय, अविनय दुबे,शिवानी मैत्रा, मंगला जोशी, ज्योति शर्मा, सुमन पुरोहित विभा भगत, शोभा तिवारी, आरती दुबे, तनु पाण्डेय, निरजा शर्मा,शुभांगी आपटे, प्रतिभा मिश्रा, डा. सुमन मिश्रा, सुधा बेन जोशी, विनोद पंड्या, सुनीता शर्मा, बबीता दुबे, अनुराधा राव, डॉ. मंजु शुक्ला, करूणा तिवारी, फाल्गुनी बेन जोशी, संगीता शर्मा, जयश्री बेन जोशी, प्रवीणा बेन, स्वराज तिवारी मुंगेली, वैभव तिवारी पेंड्रा, विवेक बाजपेयी रायगढ़, मनोज तिवारी बिलासपुर, अखिलेश्वरी शुक्ला हथबंद, अर्जुन प्रसाद तिवारी राजिम, आनंद शर्मा रायगढ़, डॉ विजय तिवारी चारामा, डॉ. विनोद तिवारी रायपुर, विजय तिवारी सहित बड़़ी सं या में प्रदेश भर के विप्र जनों ने अपनी भागीदारी सुनिश्चित की। कार्यक्रम का सफल संचालन हेमन्त तिवारी ने एवं धन्यवाद ज्ञापन राजकुमार दुबे ने किया ।

Tags: