रामलीला मैदान

संगठनात्मक कार्यों में लगन और निष्ठा

विप्रकुल गौरव पं अजय त्रिपाठी जी, मैं आप द्वारा प्रेषित राष्ट्रीय युवा संदेश मासिक पत्रिका का लगातार अवलोकन कर रहा हूँ। मुझे यह जानकर अत्यधिक हर्ष है कि आपकी टीम में मेधावान युवा लेखक अपनी लेखनी के माध्यम से विप्र समाज में प्रेरणादायी लेखों द्वारा संगठन के प्रति प्रोत्साहित कर रहे है। मैंने मई201

Tags: 

महासंगठन क्यों नहीं ?

सभी संगठनों को मिला महासंगठन क्यों नहीं ? मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और मनुष्य का चहुंमुखी विकास समाज के अन्दर ही संभव है. समाज के सर्वांगीण विकास के लिए सुसंकृत होना अति आवश्यक है और इसके लिए हमे सब मिलकर कार्य करने की आवश्यकता है.

Tags: 

ब्राहमण अधिकारों की लडाई

संकल्प का सहारा लेकर व्यक्ति समाधिष्ठ हो सकता है। नहीं होता, तो भला इस जगत की रचना कैसे संभव होती?

Tags: 

Subscribe to RSS - रामलीला मैदान