रामायण की प्रासंगिकता

परिवार के जुड़ाव में रामायण की प्रासंगिकता

भारतीय संस्कृति कृषि प्रधान संस्कृति है । इस संस्कृति की सबसे बड़ी विशेषता है परिवार प्रेम । विश्व कवि श्री रवीन्द्र नाथ ठाकुर के शब्दों में रामायण घरेलू जीवन का महाकाव्य है । विश्व की किसी भी संस्कृति में परिवारिक आदर्शों पर आधारित रामायण जैसा महाकाव्य नहीं है ।

Tags: 

Subscribe to RSS - रामायण की प्रासंगिकता