रामेश्वर सेतुबंध की रक्षा के लिए आंदोलन

रामेश्वरम में समुद्र मे डूबे हुए रामायणकालीन सेतु को नष्ट किए जाने के खिलाफ गोवर्धनमठ पुरी के शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती के निर्देश पर उनके अनुयायी संगठनों ने राष्ट्रव्यापी आंदोलन का शंखनाद कर दिया है। इस मुद्दे पर दस मार्च कों सभी संगठनों के समर्थन से धरना प्रदर्शन कर विरोध जताया गया ।

सेतुबंध रामेश्वर रक्षा अभियान के तहत राज्यपाल का ज्ञापन सौंपा भी गया । इसी सिलसिले में अखिल भारतीय पीठ परिषद आदित्यवाहिनी, आनंदवाहिनी के प्रदेश पदाधिकारियों की हुई बैठक में आंदोलन की रणनीतियों पर विचार किया गया ।

गत दिनों पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद महाराज ने सेतुबंध की रक्षा के लिए सभी हिन्दुओं को एकजुट होने का आझन करते हुए दिल्ली में अभियान की शुरुआत कर चुके पदाधिकारियों ने कहा कि नासा ने भी उस सेतु को सत्रह लाख हजार वर्ष प्रचीन सिध्द किया है ।

लेकिन केन्द्र सरकार ने इसे नष्ट करने विदेशी एजेंसी को ठेका देकर सनातन हिन्दुओं तथा भारतीय गौरव को मिटाने का षडयंत्र किया है । इसका राष्ट्र स्तर पर जोरदार विरोध किया जाएगा ।

Tags: