राष्ट्रीय विचार गोष्ठी आयोजित

राष्ट्रीय विचार गोष्ठी
राष्ट्रीय विचार गोष्ठी
राष्ट्रीय विचार गोष्ठी
राष्ट्रीय विचार गोष्ठी
राष्ट्रीय विचार गोष्ठी

एक राष्ट्रीय विचार गोष्ठी का आयोजन हुआ,जिसका विषय " राष्ट्रीय ब्राह्मण संगठनों में समय समन्वयन वर्तमान समय की आवश्यकता है " था जिस पर श्री त्रिलोकी नाथ सिधरा ने वर्तमान समय में ब्राह्मण संगठन की आवश्यकता को प्रतिपादित करते हुए कहा कि संगठनों में समन्वय देश में ब्राह्मणों की वैचारिक पृष्ठभूमि एवं उपवर्गीय ब्राह्मणों के संगठनों के आधार पर बने हैं जिनके कार्य क्षेत्र उन वर्गों के ब्राह्मणों के निवास क्षेत्रों के आधार पर अलग अलग क्षेत्रों में मजबूत एवं संगठित हैं। राष्ट्रीय गोष्ठी में डॉ. मंजु शुक्ला ने कहा कि महिलाएं यदि घर परिवार के जि मदारी के साथ समाज को अपना समय देने के लिए खड़ी होंगी तो विचारों में सार्थकता आएगी और हमारी धर्म संस्कृति में समन्वय रखकर ब्राह्मणों का संगठन एक व मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर वे स्वयं अन्य संगठनों के साथ मिलकर राष्ट्रीय समन्वय समिति के इस विचार को मुर्तरूप देने की दिशा में पहल करेंगी।

स्वागत भाषण प्रस्तुत करते हुए विप्र वार्ता के अध्यक्ष अजय त्रिपाठी ने पूर्व में कि ये गये कार्यकलापों का विस्तार से वर्णन किया एवं अपनी कार्य योजना के रूप में अतिथियों के समक्षत्र छात्रावास निर्माण की महति योजना प्रस्तुत की। विप्र वार्ता पत्रिका के प्रकाशन में देश भर के संगठनों द्वारा अपना विश्वास व्यक्त किये जाने पर अजय त्रिपाठी ने सभी के प्रति आभार प्रदर्शित किया गोष्ठी को शिवा मिश्रा, आलोक तिवारी, रज्जन अग्निहोत्री, शिवाकांत त्रिपाठी, योगेश मिश्रा, विमलेश बाजपेयी, डॉ. विजय तिवारी, राजकुमार दुबे, मुन्नालाल दुबे, सुधीर शर्मा, हरेराम तिवारी रायगढ़, संजय अवस्थी, अनुराग मिश्रा, सतीश शर्मा, राघवेन्द्र पाठक, हेमन्त तिवारी, ज्ञानेन्द्र पाण्डेय, शैलेष मिश्रा, बाबूलाल तिवारी, धनंजय त्रिपाठी, रामकिशन शर्मा, अंकुर ओझा, आदित्य मिश्रा, अशोक शर्मा, वीरेन्द्र अवस्थी, दिव्यप्रकाश दुबे, मनोज शुक्ला, नागेन्द्र पाण्डेय, उमेश तिवारी, अखिलेश्वरी शुक्ला, सुभाष चन्द्र मिश्रा, उमाशंकर त्रिपाठी, अर्जुन प्रसाद तिवारी राजिम आदि ने अपने विचार रखें।

Tags: