विचार

राष्ट्रीय विचार गोष्ठी आयोजित

राष्ट्रीय विचार गोष्ठी
राष्ट्रीय विचार गोष्ठी
राष्ट्रीय विचार गोष्ठी
राष्ट्रीय विचार गोष्ठी
राष्ट्रीय विचार गोष्ठी

एक राष्ट्रीय विचार गोष्ठी का आयोजन हुआ,जिसका विषय " राष्ट्रीय ब्राह्मण संगठनों में समय समन्वयन वर्तमान समय की आवश्यकता है " था जिस पर श्री त्रिलोकी नाथ सिधरा ने वर्तमान समय में ब्राह्मण संगठन की आवश्यकता को प्रतिपादित करते हुए कहा कि संगठनों में समन्वय देश में ब्राह्मणों की वैचारिक पृ

Tags: 

एंकरिंग के लिए वाणी में मधुरता जरूरी - उमा अय्यर रावला

जन्म स्थली बंगलुरु से निकलकर भोपाल में शिक्षा-दीक्षा हासिल करने के बाद देश-विदेश में अपनी माटी की महक फैलाने वाली उमा किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं। वे अपनी प्रतिभा का लोहा देश-विदेश के तमाम मंचों पर मनवा चुकी हैं। सुरीली आवाज और सारगर्भित शदों में संबोधन का उनका अंदाज निराला है। बौद्धिक परिपक्वत

Tags: 

विप्रवार्ता के सम्बन्ध में विचार और शुभ मंगलकामना

आपका पत्र प्राप्त हुआ आपके विप्रवार्ता के सम्बन्ध में विचार और शुभ मंगलकामनाये प्रेरणा दाई है ,
भविष्य में भी आपका आशीर्वाद बनाये रखे ,आपका संस्कृत आयोजनों की रिपोर्ट एवं जानकारी से अवगत कराये ताकि
पत्रिका में पुरवत प्रकाशन संभव हो सके

Tags: 

नये परिवेश में-विवाह में विचार

भारत में अभी भी शादी - ब्याह के लिये कूंडलियों को मिलाने पर काफी जोर दिया जाता है । इसके बाद लड़के की नौकरी, जमीन जायदाद और लड़की की सुंदरता और खाना पकाने की कला देखी जाती है । अगर सब कुछ ठीक ठाक रहता है तो वह और वधू पक्ष में थोड़ी सीबातचीत के बाद रिश्ता तय कर दिया जाता है । अरेंज मैरिज में इन्हीं ब

Tags: 

सामाजिक संस्थाओं का औचित्य

आज लगभग सभी समाजों ने अपनी संस्थाएं अथवा ट्रस्ट बनाकर पंजीकृत करवा रखे हैं और यदा-कदा शासकीय लाभ लेने में भी पीछे नहीं रहते किन्तु सवाल यह है कि जिस समाज के नाम से संस्था बनी उसके सदस्यों को क्या मिला ? हमने बड़ी - बडी धर्मशालाएं और भवन खड़े कर लिए मदिरों का जीर्णोद्वार अमूमन चलता ही रहता है ।

Tags: 

वेदों में हनुमात् चिन्तन

वेदों में भी श्री हनुमान जी के स्वरूप् कार्य एंव सेवा की प्रशंसा की गयी है सभी सम्प्रदायों में इनके स्वरूप को निर्धारित किया गया है।

वेदावतार श्रीमद्वाल्मीकीय रामायण में , अध्यात्म रामायण में रामचरितमानस में गोस्वामी जी ने तो इनके नाम पर सुन्दरकाण्ड ही लिख दिया है ।

Tags: 

Subscribe to RSS - विचार