विप्रवार्ता का यह अंक अगस्त 17

विप्रवार्ता,अंक,अगस्त,

प्रिय पाठकों,विप्रवार्ता का यह अंक आपको समर्पित करते हुए हमें यह बताने में कदापि संकोच नही हो रहा है कि यह पत्रिका विप्र समाज के सभी पहलुओं पर बहुत गंभीरता से विचार कर उसे पर्याप्त स्थान देने की कोशिश करती है.
आपने गत अंको में देखा होगा कि विप्र बंधुओं द्वारा आयोजित अनेक कार्यक्रमो को विस्तार से छापा गया ,जैसे बिलासपुर का परसुराम जयंती पर आयोजित विशाल रैली,शोभायात्रा,विप्रजनो का सम्मान आदि का कार्यक्रम,,,
उसी तरह रायपुर में अलग अलग संगठनों की ओर से।चलाए जा रहे आयोजन यथा कान्यकुब्ज महिला मंडल,छतीसगढ़ी ब्राहण महिला समाज,युवा पहल आदि संगठनों के द्वारा आयोजित रचनात्मक कार्यक्रम,,, कोशिश यही रहती है कि ब्राह्मण समाज के द्वारा चलाये जा रहे विविध गतिविधियों को पूरा कवरेज दिया जाय जिसके पीछे यही प्रधान उद्देश्य है कि हम एक दूसरे से प्रेरणा लेकर संगठित हों ,,हम एक दूसरे की सहायता के लिए तत्पर हों ,,,,हमारीं गतिविधियाँ हमारीं सदियों से स्थापित गौरवशाली स्वरूप को कायम रख सके ।
इस पत्रिका में ज्ञानवर्धक लेख स्वीकार किये जाते हैं,उनका यथासमय प्रकाशन किया जाता है जिनके द्वारा हमारी प्राचीन मान्यताओं के गूढ़ अर्थ,भाव नई पीढ़ी समझ सके । विप्रवार्ता देश भर के विप्र जनो के पास पहुंच रही है इस अर्थ में इसे व्रिहद स्वरूप में स्थापित करना हमारी महती जिम्मेदारी है,,,इसलिए अब आवश्यकता है कि इसके कलेवर और इसके स्तम्भ में खास बदलाव किया जाय . इस हेतु आपके बहुमूल्य सुझाव की अपेक्षा है आप हंमे मेल करें या पत्र लिखें आपका स्वागत है आपको यह जानकारी देते हुए हर्ष हो रहा है कि हमने इस अंक से विप्र समाज के हित मे तथा सार्वजनिक जीवन मे अपना उल्लेखनीय ओर अविस्मणीय योगदान देने वाले स्वजनों के जन्मदिवस पर उनकी जीवन यात्रा पर एक सारगर्भित लेख प्रकाशित करने का निर्णय लिया है इस हेतु हमेआपके सहयोग की आवश्यकता होगी ,,आप अपने आस पास के ऐसे समर्पित सज्जनों का परिचय भेजें या हमें सूचित करें हम उनसे संपर्क कर उन्हें समाज के सामने लाएंगे ताकि उनके जीवन से ,उनके कृत्यों से और भी स्वजन समाज के हित के लिए प्रेरित हो सकें,,
यह अंक आपको प्रेषित करते हुए हम आपसे यही अपेक्षा करते हैं कि आप अपने बहुमूल्य सुझाव हमे भेजते रहें,,,हमे अवगत कराते रहें कि हमारा प्रयास किस दिशा में हो ,,,

Tags: