विप्रवार्ता की राष्ट्रीय छवी स्थापित

देश और प्रदेश के सर्व ब्राह्मण संगठनों की गतिविधियों को स्थान देकर विप्र वार्ता ने अपनी राष्ट्रीय छवी को स्थापित किया है और यह पत्रिका ब्राह्मण समाज की एकता को बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुई है ये विचार विप्र वार्ता के नवीन अंक के विमोचन के अवसर पर पूर्व विधायक एवं समग्र ब्राह्मण प्रांतीय महासभा के अध्यक्ष वीरेन्द्र पाण्डेय ने व्यक्त किये। श्री पाण्डेय ने कहा कि विप्र वार्ता और अजय त्रिपाठी एक दूसरे के पुरक है। विप्र वार्ता की टीम बधाई की पात्र है जो पूरे देश में फैली हुई है व सभी प्रांतो की गतिविधियों का संग्रह कर इसे प्रकाशित करती है । कार्यक्रम के विशेष अतिथि के रूप में छत्तीसगढ़ फिल्मों के सुप्रसिद्ध अभिनेता सुनील तिवारी ने पत्रिका के रंगीन प्रकाशन पर टिप्पणी करते हुए कहा कि गंभीर विषय पर रंगीन पत्रिका का छपना एक कठिन कार्य है जिसे सम्पादक मंडल द्वारा रंगों को भरकर रंगीन किया जाना चुनौतिपूर्ण कार्य है जिसे पढनीय व रोचक बनाया गया है। इस अवसर पर पत्रिका परिवार के अध्यक्ष अजय त्रिपाठी सभाकार संपादक सुरेश मिश्रा, डाॅ. स्नेहलता पाठक, प्रतिभा मिश्रा, संपादक मंडल के सदस्य हेमंत तिवारी, अनुराग मिश्रा, सतीश शर्मा, राघवेन्द्र पाठक, कान्यकुब्ज सभा-शिक्षा मंडल के उपाध्यद्वय गिरिजा शंकर दीक्षित, शकुन्तला तिवारी, सचिव संजय अवस्थी, स्वामी त्रिपाठी,जयशंकर तिवारी, राजेश दीक्षित, नीता अवस्थी, निशा अवस्थी, निशा पाण्डेय, शर्मिला शुक्ला, ममता शुक्ला, नीलिमा शुक्ला, मीनाक्षी वाजपेयी, सुनीता शर्मा, आलोक तिवारी, संध्या मिश्रा, गुणनिधि मिश्रा, वंदना मिश्रा, अरूणा शुक्ला, कल्पना शर्मा, अभिलाषा तिवारी, आकांक्षा दुबे, रमाशंकर पाण्डेय, सुशील तिवारी, समीर मिश्रा, विजय शुक्ला, साजेन्द्र पाण्डेय, आलोक पाण्डेय, पंकज शुक्ला, रवीन्द्र मिश्रा, शिवराम अवस्थी, सहित बड़ी संख्या में विप्र जन उपस्थित थे।

Tags: