समग्र ब्राह्मण महासभा की आगामी कार्य योजना

कार्यकारिणी बैठक में उपस्थित विप्र जनों के समक्ष लाये गये प्रस्तावों में चर्चा कर निम्नलिखित निर्णय क्रियान्वयन हेतु लिये गये थे । आशा है आगामी कार्यकारिणी की बैठक के पूर्व इन संदर्भों में आपके द्वारा की गयी कार्यवाही से कार्यकारिणी अवगत होना चाहेगी ।

1 - जिला कार्यकारिणी की गठन के संदर्भ में जिला संयोजन समिति का निर्माण जिले में कार्यरत विभिन्न ब्राह्मण समाजों /समितियों से कम से कम 1-1 प्रतिनिधि समिति द्वारा नामांकित व्यक्तियों को जोड़कर निर्माण किया जाना था, जिला समिति में अधिकतम 31 एवं जिले की कार्यशीलता को देखते हुए विशेषाधिकार के रूप में 51 सदस्य तक लिये जाने का प्रावधान किया गया है । प्रांतीय पदाधिकारियों एवं जिला संयोजक , उप संयोजक व अन्य वरिष्ठ सम्मानीय विप्र जनों की सलाह से कार्यकारिणी का गठन अति शीघ्र किया जाय ।

2 - ब्लाक स्तरीय कार्यकारिणी गठन - प्रत्येक ब्लाको में (प्रदेश में कार्यशील ब्लाकों) कार्यकारिणी गठन किया जाना प्रस्तावित है ।

3 - जिला स्तरीय सम्मेलनों हेतु माह दिसंबर 2009 पूर्व किया जाना प्रस्तावित किया गया है । इस कार्य हेतु सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान करते हुए इसकी प्रथम कड़ी के रूप में जिले की कम से कम4 ङ्घ बैठकें जिनमें प्रांतीय पदाधिकारियों की उपस्थिति अनिवार्य हो का आयोजन किया जाय ।

4 - अन्य कार्यक्रमों में बच्चों के विकास हेतु संस्कार शिविर विभिन्न बौध्दिक प्रतियोगिताएं , धार्मिक प्रतियोगिताएं, शिक्षा हेतु गरीब बच्चों को सहयोग , बेरोजगार मार्गदर्शन शिविर जैसे कार्यक्रम प्रस्तावित किये जाने
हैं ।

5 - विप्र संगठक - ब्राह्मण समाज में सामाजिक एकता व सद्भावना व विभिन्न गतिविधियों के संचालन में सक्रिय भागीदारी निभाने के लिए प्रत्येक जिलो में जिला संयोजक, प्रांतीय पदाधिकारियों के अतिरिक्त पांच विप्र संगठक के नाम प्रस्तावित किया जाना है जिनमें अनिवार्य रूप से एक सक्रिय व कार्यक्रम में शामिल हो सकने हेतु यात्रा करने में सक्षम महिला प्रतिनिधि , युवा प्रतिनिधि, एक पुरोहिती कार्य करने वाले विप्र व दो अन्य विप्र जन जो संगठन के कार्यों में शीघ्र अवधि तक सक्रिय रूप से कार्य करने के इच्छुक हों , को शामिल किया जाना है ।
संगठको के नाम प्रस्तावित होने के उपरान्त एक तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन प्रांतीय स्तर पर किया जाना है । जिसमें संगठक एवं प्रांतीय कार्यकारिणी के सदस्यों के आपसी विचार विमर्श उपरांत आागमी कार्यक्रमों की रूपरेखा का निर्धारण किया जायेगा जिस पर संगठक आने वाले वर्षों में निरन्तरता के साथ कार्य करेंगे ।

6 - परशुरराम सद्भावना यात्रा एवं परशुराम जयंती के आयोजनों में आप सभी की सक्रिय भागीदारी से प्रदेश में विप्र एकता की दिशा में एक कदम आगे बढ़ा है । हमें विश्वास है कि आपके जिले के कार्यक्रमों के संबंध में पेपर कतरनों के साथ की गयी कार्यवाहियां अतिशीघ्र प्रेषित की जायें । संगठक कार्यशाला कार्यक्रम के समय इन कार्यक्रमों में विभिन्न श्रेणियों में अच्छे कार्य /कार्यक्रम करने वाली विभिन्न जिलों को पुरस्कृत किया जाना प्रस्तावित है ।

7 - प्रदेश में युवा एवं महिला शाखाओं का निर्माण किया जाना है । हमारा ऐसा मानना है कि ये शाखाएं आपके कार्यों में सक्रियता को बढ़ाने एवं आपके सहयोग हेतु आवश्यक है । अत: अपने जिलों में जिला कार्यकारिणी गठन के प्रक्रिया के साथ महिला एवं युवा शाखाओं हेतु प्रांतीय स्तर एवं जिला अध्यक्ष हेतु नामपदाधिकारी मनोनयन हेतु प्रस्तावित करें प्रस्तावित नाम की संक्षिप्त जानकारी संलग्न कर प्रांतीय युवा एवं महिला अध्यक्षों के नामप्रेषित करें ।

Tags: