साहित्य

तुलसी और साहित्य

विश्व प्रसिद्ध एवं पूज्य महान महाकाव्य श्री राम चरित मानस विश्व साहित्य की सर्वोत्तम कृति है। गोस्वामी जील ने इसकी रचना करते समय अनेक प्रकारकी बातों को ध्यान में रखा होगा। उदाहरणार्थ शब्द योजना । गोस्वामी जी ने अनेक शब्द मानस में इस प्रकार से रखे कि उनका वास्तविक अर्थ एवं गोस्वामी जी का उद्देश्य

Tags: 

साहित्य गरिमा पुरस्कार

साहित्य गरिमा पुरस्कार एवं आथर्स गिल्ड ऑफ इंडिया हैदराबाद चैप्टर के संयुक्त तत्वावधान में पंचम साहित्य गरिमा पुरस्रार श्रीमती शान्ति अग्रवाल पुरस्कार ग्रहिता को तथा पिवत्रा अग्रवाल कृत फूलों से प्यार बाल कथा संग्रह का लोकार्पण समारोह गत दिनों प्रेस क्लब बशीर बाग, बैदराबाद में आयोजित किया गया । इस

Tags: 

सामाजिक एकता और संस्कृति

ार्मिक सद्भाव, सहयोग पर्व, उत्सव , कला और साहित्य संस्कृति के अंग है । इनका आदान प्रदान संस्कृति एकता को जन्म देता है । संगठन की एकता अखण्डता एक समाज का जीवन और समृद्धि के लिए अनिवार्य है । जो समाज अपने पैरों पर खड़ा होना जानता है वह कभी परास्त नहीं हो सकता । जो समाज दूसरों पर निर्भर रहता है वह ल

Tags: 

पं. संजीव ठाकुर का सम्मान

कवि, कविता, सम्‍मान, प्रथम, अखिल, साहित्य, पुरस्कार, कवि संजीव ठाकुर, प्रयोगधर्मी कृति, कहानी, उपन्यास

Tags: 

भारत के जन मानस पर तुलसी का अधिकार

गोस्वामी तुलसीदास हिन्दी साहित्य के इतिहास में भक्तिकाल की सगुण भक्ति शाला की राम काव्यधारा के प्रतिनिधि कविके रूप में आदरणीय हैं । तुलसीदास रामचरित मानस जीवन की समग्रता को लेकर चलने वाली एक कालजयी रचना है जिसकी जड़े भारत की धरती में है । मानस आज अत्यधिक लोकप्रिय तथा जन जीवन के सर्वाधिक निकट लक्ष

Tags: 

पं. संजीव ठाकुर को मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार

पं. संजीव ठाकुर को भव्य समारोह में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा '00म/- शॉल तथा श्रीफल से सम्मानित कर प्रथम अखिल भारतीय मैथिलीशरण गुप्त साहित्य पुरस्कार प्रदान किया गया , यह पुरस्कार अखिल भारतीय गहोई वैश्य समाज द्वारा स्थापित किया गया है। यह सम्मान व पुरस्कार पं.

Tags: 

Subscribe to RSS - साहित्य