हिन्दू

गर्भाधान संस्कार पहला संस्कार

गर्भाधान संस्कार सनातन अथवा हिन्दू धर्म की संस्कृति संस्कारों पर ही आधारित है। हमारे ऋषि-मुनियों ने मानव जीवन को पवित्र एवं मर्यादित बनाने के लिये संस्कारों का अविष्कार किया। धार्मिक ही नहीं वैज्ञानिक दृष्टि से भी इन संस्कारों का हमारे जीवन में विशेष महत्व है। भारतीय संस्कृति की महानता में इन संस

Tags: 

पितृ पक्ष-श्राद्ध-श्रद्धा का महत्त्व

इस वर्ष पितृपक्ष 30 सितम्बर से प्रारम्भ होगा तथा 16 अक्तूबर तक चलेगा उसके बाद नवरात्र प्रारम्भ होंगे। सभी अपने आत्मीजनों के स्मरण और उनकी पूजा अर्चना में व्यस्त होंगे।संस्कृति में कहा है “श्रद्धावान लभते फलम्” अर्थात् श्रद्धा और विश्वास रखने वाला फल का लाभ प्राप्त करता है।

Tags: 

हिन्दू संस्कृति में नारी का महत्व

भारतीय संस्कृति की यह महानता है कि उसमे ंप्रत्येक प्राणी का आदर प्रदान किया गया है । सभी प्राणियों में नारी का विशेष सम्मानजनक स्थान है। धर्मग्रंथों में उसे मातृदेवता कहा गया है जाया के रूप में नारी आद्या शक्ति है । ग्रन्थों में कहा गया है कि जिस घर में नारी का सम्मान नहीं होता, वहां देवता भी निव

Tags: 

विभिन्न शहरों में होली मिलन सम्पन्न

होली का पर्व हिन्दू समाज सहित ब्राह्मणों के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक है । होली मिलन के सार्वजनिक कार्यक्रम विभिन्न शहरों में अलग अलग तरह से हर्षोल्लास के साथ मनाये गये । रायपुर राजधानी में भी छत्तीसगढ़ी ब्राह्मण समाज महिला मंडल सरयूपारीण ब्राह्मण समाज, कान्यकुब्ज ब्राह्मण समाज

Tags: 

Subscribe to RSS - हिन्दू