राजनीती और समाज को धर्म सम्मत चलने का कार्य ब्राह्मण का

ब्रह्मोउत्शव
ब्रह्मोउत्शव
ब्रह्मोउत्शव

रायपुर । छत्तीसगढ़ के राजनैतिक, सामाजिक परिवेश को धर्म सम्मत चलाने का कार्य ब्राह्मण को करना होगा। छत्तीसगढ़ सहित देश में सदैव ब्राह्मण अपनी इस भूमिका का निर्वाह करते रहे हैं। यह विचार आज राजिम के विधायक एवं कार्यक्रम के मुख्यअतिथि संतोष उपाध्याय ने ब्र होत्सव 2014 के अवसर पर व्यक्त किये । श्री

Tags: 

ब्रम्होत्सव 2014 का आयोजन

राष्ट्रीय विचार गोष्ठी,अजय त्रिपाठी,ajay tripathi

सर्व युवा ब्राम्हण परिषद् छत्तीसगढ़ द्वारा प्रकाशित विप्र वार्ता हिन्दी मासिक पत्रिका के 100 वें अंक के प्रकाशन के अवसर पर ब्रम्होत्सव 2014 का आयोजन 20 सितबंर 2014 को स्थानीय आर्शिवाद भवन बैरन बाजार में आयोजित किया गया है आयोजन में राष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ प्रांतिय प्रतिनिधियों की

Tags: 

विचार गोष्ठी

आदरणीय साथियों , 12 सित को शाम 4 से 7 बजे तक वृब्दावन हाल रायपुर में विप्र वार्ता की उपयोगिता और उसके सांस्कृतिक संरक्चन ,समाज पर पढ़े प्रभाव , भविष्य में रुपरेखा क्या हो, विषय पर विचार गोष्टी पत्रिका के 100 वे अंक में प्रकाशन हेतु आयोजित है आपको सादर आमंत्रण
अजय त्रिपाठी

Tags: 

विप्र वार्ता पहुची 100 वी पायदान पर

विप्र वार्ता 100 वा अंक सितम्बर में प्रकाशित होने जा रहा है आप सभी सादर आमंत्रित है , सभी से निवेदन की पत्रिका की उपयोगिता और उदेश्शय प्राप्ति की दिशा में बढे कदम और भविष्य में आपकी नजर में पत्रिका के स्वरूप पर अपने विचार शीघ्र आगामी अंक में प्रकाशन हेतु भेजे

Tags: 

समस्त प्रतिनिधियों के निवेदन

कृपया आगामी परशुराम जयती विशेषांक हेतु अपने क्षेत्र से विप्रो के इस प्रमुख पर्व हेतु शुभकामना विज्ञापन प्राप्त कर प्रेषित करें। सभी सदस्यों की सदस्यता समाप्ति की ओर से कृपया विशेष ध्यान देकर सदस्यता निरंतर करवाने में मदद करें अन्यथा पत्रिका प्रेषित किया जाना संभव नहीं होगा। संपादक

Tags: 

वर्ण व्यवस्था

वर्ण व्यवस्था -जन्म मूलक या कर्म मूलक-- ऋग्वेद के दसवें मण्डल के पुरूषसूक्त में शुद्र शब्द आया है इससे इस बात की पुष्टि होती है कि आज से लगभग 1500-1000 ईसा पूर्व अर्थात ऋग्वेदिक काल में वर्ण व्यवस्था का जन्म हुआ था। यह माना जाता है कि इस काल में समाज समतावादी था अर्थात समाज में छूआछूत का प्रचलन न

Tags: 

घर से हो चरित्र निर्माण

ajay tripathi,vipra,

घर से हो चरित्र निर्माण तब होगा समाज-देश-महान --- भारत में आज भी सामाजिक सुरक्षा का काम परिवार करता है। जिस कारण भारत की अर्थव्यवस्था पर ज्यादा बोझ नही पड़ता । परिवार केन्द्रित समाज की अर्थव्यवस्था होने के कारण से भारत की घरेलू बचत दर दुनिया में सब से ज्यादा 36 प्रतिशत है। जो भारत को समुचित विकास

Tags: 

वर्तमान में ब्राह्मण नेतृत्व उसका अस्तित्व

भारतीय संस्कृति राजनीति एवं सामाजिक परिवेश प्रारंभ से ही ऋषिमुनियों एवं ब्राह्मणों से प्रभावित एवं संचालित रही है। प्राचीन काल में राजों महाराजों के सलाहकार एवं राज पुरोहित ब्राह्म वर्ग से ही हुआ करते थे.

Tags: 

Pages

Subscribe to Vipra Varta RSS